Mr. Keith Lawrence Goldstein's Blog



MTF- SEM of Substance Use and Extracurricular Activities on Education and Enjoyment
Bookmark and Share

 

Below are a series of several SEM models. These models show the effects of social influences (substance use and extracurricular activities) on school and life. They show how a student's leisure activities influence his schoolwork and success. Future models will take into account group differences and additional subsets of the population.

 

Overview of Latent Variables:

Substance use= use of cigarettes, marijuana, and drink alcohol.

Extracurricular activities=going to parties, dates, playing sports, having friends, and watching tv.

Education=grades, planning to go to college, and doing homework

Enjoyment=enjoyment of being alive, life, and school

 

Description of First Graph

Substance use causes a decrease in education and enjoyment. Education increases enjoyment. Extracurricular activities increase education and enjoyment. I have not tested here whether extracurricular activities are related to substance use. 

There are a number of additional options to this path diagram, which shall be discussed in the future. Your feedback of hypotheses would be highly appreciated.

 

 

 

The following graph shows latent variables for substance use of one's friends, peer pressure, and an atmosphere of users in the school influence one's use of substances, and how this combined with extracurricular activities influence education. Notice that one's friends are the greatest influence on substance use (.68 factor loading), while atmosphere has apparently no effect. A vast number of potential covariances has not been drawn.   

 

 

In the following graph covariances have been drawn between corresponding substances. It may be beneficial to add a separate indicator for drunkenness as opposed to just drinking.

 

 

 

 

 

1
Anonymous
12-Aug-2016, 17:31
Plneisag to find someone who can think like that

2
Anonymous
29-Jul-2012, 3:51
It's a relief to find someone who can eplxain things so well

3
Anonymous
27-Jul-2012, 15:26
Thanks guys, I just about lost it lokonig for this.

4
Anonymous
27-Jul-2012, 7:28
म र भ ई,आप इसस ग जर , और अपन प रत क र य दर ज़ क समय आपक आभ र ह थ ड़ स प रत व द ह यह श र खल भ तद रव य और च तन क प र थम कत और उत पत त क स दर भ म चल रह ह यह दर शन क व षय ह , और उसक ब न य द सव ल भ एक तरफ़ प रत ययव द , भ वव द दर शन ह ज च तन क प र थम क म नत ह और भ तद रव य (Matter) क उसस व य त पन न इस आप ऐस समझ ग क व श व क न य त एक व च र, एक ईश वर ह और उस स इस व श व क , स र भ त द रव य क स जन ह आ ह द सर ओर द व दव द भ त कव द दर शन ह ज म नवज त क यथ र थ ज ञ न क आध र पर यह स द ध करत ह क भ तद रव य प र थम क ह और च तन इसक व क स क जट लतम र प ह य न भ तद रव य (आप इस फ लह ल पद र थ भ समझ सकत ह ) स ह स र ज व, अज व प रक त क व क स ह आ ह , च तन क उत पत त ह ई ह ज ह र ह इसक अन स र व श व क समझन क ल ए क स पव त र व च र य ईश वर क पर कल पन ओ क आवश यकत नह य द न अलग-अलग ध र ए ह , ज द न य क द खन क अपन -अपन नज़र य व कस त करत ह अब आप इनम स अपन नज़र ए क टट ल सकत ह क आप क स र ह क र ह ह और च ज़ क समझन क ल ए अम र त व च र क शरण ल त ह य यथ र थ व स तव कत क व श ल षण क ज ह र ह , इन द ष ट क ण क आप कई प स तक म प सकत ह , यह भ यह प स तक स ह प र प त ह पर त असल म तव य इन ह समझन और एक सह व ध क च न व कर उस अपन समझ और व यवह र म ल न ह , ज क अक सर नह ह प त ह मन ष य अपन ह त क अन क ल ह , कभ आस थ ओ क सह र ल त ह और कभ तर क क , जह ज सस उसक ह त सध ज ए वह अवसरव द ह कर उसक शरण म चल ज त ह ह ल क इसक प छ भ उसक भ त क आवश यकत ए क र य कर रह ह त ह , और वह गहर ई स इस ब त क समझत ह क ज वन यथ र थ व स तव क क र य और प रयत न स ह आक र ल त ह अब अगर म र भ ई, पढ़ भ ल य गय ह पर समझ क ह स स नह बन प य ह त व यर थ ह इस उद द श य स क उस व यर थत क स ध र क ग ज ईश एक ब र फ र बन सक , फ र एक आध र बन य ज सक , ज न ज ञ न क ह स स स हम मजब र म , पर क ष ओ म सफल ह न क त त क ल क उद द श य स ग जर कर आय ह , अपन ज ञ न और समझ क बढ़ न क उद द श य स फ र स ब वस त ह सक , यह एक म क समय अपन आपक द रह ह यह इसल ए क और मन ष यश र ष ठ भ इसम श म ल ह सक ००००००आप श र म श र ज क स थ र म बहकर ऐस ल ख गय ह , पर सच च ई श यद यह ह क आपन political sceince क क त ब म यह पढ़ ह ह नह सकत , क य क यह उसक व षयवस त क द यर म नह आत ह , आपन दर शन, भ त कव द, द व द त मक भ त कव द, ऐत ह स क भ त कव द आद क स व षय पर प स तक पढ़ ह , य यह थ ड़ स सतह र प म philosophy क प ठ यप स तक म भ उपलब ध ह , उनस ग जरन ह आ ह त आपन जर र ऐस ह ब त पढ़ ह सकत ह आपन सरल भ ष क अन र ध क य ह , एक अन र ध समय क भ ह क आप इसस ऐस ह क ल ष टत क स थ, शब दक ष स थ रखकर इसस ग भ रत स ग जर कर त द ख द ख एग क क स आपक ज ञ न, आपक समझ, और आपक भ ष क न खरन और व क स करन क अवसर म लत ह थ ड़ समय त द न ह ह ग न इस महत क र य क ल ए, और समय यह ह ह आपक स व म ००००००००००समय आपक अम ल य सल ह और शब द क ल ए आपक आभ र ह , इसक प रज र क शश क ज एग और भव ष य म आप असर भ द ख ग , ह ल क समय क स भ तरह क चमत क र द ख न और चमत क त अन र ग य क भ ड़ क कतई आक क ष नह ह श क र य प रत क र य द स व द बन ए रख समय

Leave a comment: